What Lies Beneath the Rubble?

♦ Eman Mohammed When I turned 19, I started my career as the first female photojournalist in the Gaza Strip, Palestine. My work as a woman photographer was considered a serious insult to local traditions, and created a lasting stigma for me and my family. The male-dominated field made my presence unwelcome by all possible means.…

वह जो आदमी है न

हरिशंकर परसाई निंदा में विटामिन और प्रोटीन होते हैं। निंदा खून साफ करती है, पाचन-क्रिया ठीक करती है, बल और स्फूर्ति देती है। निंदा से मांसपेशियाँ पुष्ट होती हैं। निंदा पायरिया का तो शर्तिया इलाज है। संतों को परनिंदा की मनाही होती है, इसलिए वे स्वनिंदा करके स्वास्थ्य अच्छा रखते हैं। ‘मौसम कौन कुटिल खल…

बालिग होने से पहले

बॉयहूड फिल्म से एक छोटा सा क्लिप जिसे मैं समझता हूँ हरएक पैरेंट को देखना चाहिए… थोड़ा शॉक लग सकता है मगर बर्दाश्त कीजिये … संस्कृति इत्यादि के नाम पर जो कचरा हमने इकट्ठा किया है उसे साफ़ किये बगैर कोई गुजारा भी तो नहीं है … हमारे अपने समाज ने जिन मसलों को अरहर के…

तुम एक गोरखधंधा हो …

खास पेशकश: नुसरत फ़तेह अली साहब द्वारा गाये गए इस बेहतरीन सूफी कलाम का मज़ा लीजिये … इस कलाम के रचयिया नाज़ ख़िल्वी साहब हैं, जो पाकिस्तान रेडियो में प्रोडूसर थे… कमाल का लिखा है … नुसरत साहब ने गाया भी बेजोड़ है …   कभी यहाँ तुम्हें ढूँढा, कभी वहाँ पहुँचा, तुम्हारी दीद की…

घोर लापरवाही या गहरी साजिश ?

(Uday Prakash जी के फेसबुक वॉल से साभार) उदय प्रकाश बिलासपुर मेरे गांव से बमुश्किल दो घंटे की दूरी पर है और पेंड्रा, गौरेला, मरवाही तो लगभग लगे हुए हैं. राजनीतिक तकनीक के लिहाज से मेरा गांव सीतापुर मध्य प्रदेश के सीमांत पर है, उसी तरह, जैसे जहां अब मैं रहता हूं फ़िलहाल- वैशाली, वह उत्तर…

मैं तहज़ीबो-तमद्दुन की और सोसाइटी की चोली क्या उतारूँगा ?

“जिस नुक्स को मेरे नाम से मंसूब किया (जोड़ा जाता) है, दरअसल मौजूदा निज़ाम का नुक़्स है—मैं हंगामापसंद नहीं। मैं लोगों के खयालातो-जज़्बात में हैजान (उबाल) पैदा करना नहीं चाहता। मैं तहज़ीबो-तमद्दुन की और सोसाइटी की चोली क्या उतारूँगा जो है ही नंगी। मैं उसे कपड़े पहनाने की कोशिश भी नहीं करता, इसलिए कि यह…